There was an error in this gadget

Tuesday, 14 June 2011

akshar anant

 फेल हो गए नौनिहाल 
ख़त्म हो गया आटा-दाल 
जनता की अब फ़िक्र किसे 
नेता अफसर मालामाल ||


जब चुनाव की बारी आयी 
बज उट्ठी फिर सुर शहनाई 
झूमे नेता नाची जनता 
झुठला दी सारी सच्चाई ||


हाथों के तोते उड़वा कर 
अब किससे हम करें सवाल
जनता की अब फिक्र किसे ,
नेता अफसर मालामाल  ||



No comments:

Post a Comment