There was an error in this gadget

Friday, 19 August 2011

सरकार की जय हो !!

आदेशानुसार

हथकड़ियाँ पहन ली  हैं
चिपका लिया है
मुँह पर टेप
पाँवों को बना दिया  है
अभ्यस्त
आदेशानुसार  ।

आप की हर बात
मानी जाएगी सरकार  ।

सर्वशक्तिमान सत्ता को
चुनौती देने वाले तमाम
लोगों की जमात
माँगती है आप से
रहम की भीख
दया के महासागर
हे ! करुणा के अवतार ।

बस एक इल्तिज़ा है हुज़ूर
रात आधी नींद
या सुबह की चाय पर
सत्ता की पीनक जब टूटे
आस-पास अंगरक्षकों का साया छूटे
एक बार सोचियेगा,
बिचारियेगा माइ -बाप
क्या आप के पास हैं--
सवा सौ करोड़ हथकड़ियाँ,
इतने लोगों के मुँह पर चिपकाने के लिये
टेप का भंडार ।

खल्क खुदा का,
मुल्क आप का--
माइ-बाप
हम सब कुछ सहने-करने को
हैं तैयार
आदेशानुसार ।

                       ------आशुतोष कुमार झा

No comments:

Post a Comment