There was an error in this gadget

Sunday, 11 September 2011

हिंदी दिवस पर रोया मन

                           1
मुरझाएं क्योंकर  नहीं हिन्दी के बनफ़ूल
गली - गली में खुल गये अंगरेज़ी स्कूल
सरकारें,  तय जानिये,  नहीं  हमारे  साथ
वर्ना सीने पर अपने, गड़ता नहीं ये शूल॥ 


 

                                      2
गांधी बाबा  मर  गये,  आ  न सका  सुराज
नेताओं  में  होड़  मची ,  कैसे  पहनें  ताज
भाषा  में  क़ायम  हुआ  फ़िर अंगरेज़ी राज
चेरी बन हिन्दी रही तब भी बची न लाज॥




                     3
मेल-मिलाप की भाषा हिन्दी
गाँव-समाज की भाषा हिन्दी
आओ नव निर्माण करें ,  हो
राज-काज  की भाषा हिन्दी॥




                 4
इधर-उधर  ना  डोलिए
हिन्दी  में  पर  तोलिए
भाव बढ़े,सम्मान बढ़े
अपनी भाषा बोलिए॥

 



              5
मृदु कंठ गाती भारती
हिन्दी तुम्हारी आरती
शीर्ष तुम जग में बनो
सर्वत्र भारत - भारती॥

 


                    6
वह दिन कभी तो आएगा
इतिहास  बदला  जाएगा
ऊँचा उठा कर शीष भारत
हिन्दी की महिमा गाएगा॥




                                  7
मिटे  न  हिन्दी  अपने  दिल से, मिटे न हिन्दोस्तान ।
बोलें , बरतें  अपनी  भाषा , लौटाएँ  इसका  सम्मान ॥




                             8
अंगरेज़ी  की  दासता  कैसे  आए  रास ।
ना तो मैं अंगरेज़, ना तो किसी का दास॥




                           --आशुतोष कुमार झा






No comments:

Post a Comment