There was an error in this gadget

Sunday, 11 September 2011

ऐसा भी एक इंतज़ार

क्षण मुक्तक में ढ़ल गए
दीप- शिखा से जल गए
मैं दहलीज़ न लांघ सका
तुम आते-आते टल गए॥

No comments:

Post a Comment