There was an error in this gadget

Saturday, 3 September 2011

२० मार्च , विश्व गौरय्या दिवस पर विशेष

बहरे समय में वसंत का गीत

झुन्ड के झुन्ड गानेवाली
चहचहाकर विन्दु-समुद्र बनानेवाली
घर-आँगन बसेरा बसाने वाली
नन्ही-सी, भूरी-सी चिड़िया
दिखती नहीं आजकल कहीं
तिनके उठाते हुए,
सिलसिलेवार सजाते हुए,
घोंसला बनाते हुए,
      ढेर सारी चिड़ियाँ
      चहचहाते हुए ।
                  
                   हम आठ फ़ीसदी की दर से
                   विकास कर रहे हैं--
                   भूरी चिड़िया
                   दिखती नहीं आज कल कहीं ;

अगले साल
जब हम विकास दर बढ़ा कर
दस फ़ीसदी पर लाएंगे
क्या पता,
हमीं ग़ायब हो जाएंगे ।

                 आज अचानक
                 तीन गौरय्ये दिख पड़े
                 घर के आहते में
                 मैं भागते हुए घर में घुसा
                 खोल दीं
                 खिड़कियाँ-दरवाज़े सभी...
                  ..... अपना ली
                 स्वागत की मुद्रा
                 -- जहाँ चाहो, घर बना लो
                 विकास के आंकड़ों के ऊँचा-दर-ऊँचा उठते
                 तीर से बचे हुए गौरय्यों--
                 सुनना चाहता हूँ तुम्हारे कंठ से
                 इस बहरे समय में....
                 वसंत का गीत ।


-- आशुतोष कुमार झा
व्याख्याता, हिन्दी विभाग.
मिसेज़ के.एम.पी.एम.इण्टर कॉलेज.
बिष्टुपुर, जमशेदपुर ८३१००१










No comments:

Post a Comment